MastiYa   MastiYa MastiYa Mastiya on Youtube

Go Back   MastiYa > Mirch Masala > Stories

Reply
 
Thread Tools Search this Thread Display Modes
  #1  
Old 08-10-2011, 09:56 PM
Cooldude's Avatar
Cooldude Cooldude is offline
Respected Member
 
Join Date: Jul 2008
Posts: 15,612
Rep Power: 242
Cooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legendCooldude is Forum legend
Default दो दीवाने

दो दीवाने

प्रेषक : प्रेम सिसोदिया

अजय मेरा अच्छा दोस्त था। हम दोनों एक साथ पढ़ाई पूरी करके मेडिकल रेप्रेसेंटेटिव बन गये थे। हम दोनों एक ही कम्पनी में थे। आस पास के क्षेत्रो में जाकर दौरा करना और दवाईयां का ऑर्डर लाना ही हमारा काम था। अपनी दवाईयों को भी हम प्रोमोट करते थे।

अजय मेरा अच्छा दोस्त ही नहीं था बल्कि उस पर मैं आसक्त भी था। मैं उसकी सुन्दरता पर मरता था। खास कर उसकी गोल गोल कसी हुई गाण्ड मुझे बहुत आकर्षित करती थी। मैं कभी कभी अपने आपे से बाहर हो कर उसकी गाण्ड पर हाथ भी फ़िरा देता था, पर वो सहज ही रहता था। बस कभी कभी हंस देता था। मुझे उसके लण्ड का उभार तो बस घायल ही कर देता था। मैं रात को कभी कभी सपने में उसकी गाण्ड मारने का प्रयत्न भी करता था। पर प्रत्यक्ष रूप से कभी किसी की गाण्ड मारी नहीं थी सो सपने में भी बस कोशिश ही करता रहता था। फिर मेरा लण्ड ढेर सारा वीर्य पजामे में ही उगल देता था और मेरा सारा पजामा भीग जाता था।। वीर्य के चिपचिपेपन के कारण मैं जल्दी से अपना उतार देता था। पर मेरे दिल में था कि कैसे भी उसे पटा कर उसकी गाण्ड मार दूँ और एक बार मरवा कर भी देखूँ। पता नहीं कितना मजा आयेगा। मजा आयेगा भी या नहीं?

आज कम्पनी के द्वारा मुझे और अजय को दिल्ली जाने का आदेश मिला था। मैंने सवेरे ही जाकर दो सीट एसी बस में करवा ली थी। मैंने सोचा रात भर साथ साथ बस में रहेंगे तो शायद काम बन जाये ! अगर नाराज होगा तो माफ़ी मांग लूंगा, दोस्त ही तो है। यही सोच कर मैंने अपने आप को जैसे तैसे तैयार कर लिया। पर डर तो दिल में लगा ही रहा।

शाम का समय भी आ गया। मैं पहले अजय के घर गया और उसको साथ लेकर टैक्सी में बस स्टेण्ड आ गया। मेरे दिल में चोर था सो मैं उससे आँखें तक नहीं मिला पा रहा था। मैंने आज पैंट के भीतर चड्डी जानबूझ कर नहीं पहनी थी सो कुछ अजीब भी लग रहा था।

एसी बस में हर सीट के पास पर्दे लगे हुए थे ताकि कोई किसी को परेशान ना कर सके। मैंने पर्दे को ठीक से सरका कर केबिन जैसा बना लिया। बस अपनी नियत समय पर चल दी थी। रात्रि के नौ बज चुके थे। हम दोनों बतियाने में लगे थे। मैं तो अपनी योजना अनुसार अपने हाथ को बार बार उसके लण्ड के आस पास मार भी रहा था। जाने कैसे उसका हाथ भी एक दो बार मेरे लण्ड पर आ गया था। कुछ ही देर में बस की बत्तियाँ बन्द हो गई। हम भी शान्त होने लगे। अब समय था कुछ कर गुजरने का। उसके लण्ड पर जम कर हाथ मारने का। मैंने अपना मन कठोर बना लिया था कि इसकी मा चुदाये ! मुझे तो इसका लण्ड पकड़ कर मरोड़ ही देना है।

मैं सोच ही रहा था कि कैसे क्या करना चाहिये, तभी अजय का एक हाथ मेरी जांघ पर आ गिरा। मुझे लगा नींद के झोंके में हाथ आ गया है। मैंने कुछ नहीं किया, पर मैं भी एकाएक रोमांचित हो उठा। उसका हाथ मेरे लण्ड की तरफ़ सरक रहा था।

तो क्या ... इसका मन भी यही करने का था।

अब उसका हाथ सरक कर मेरे लण्ड के ऊपर आ गया था। आह, मुझे तो अब कुछ भी नहीं करना था। बस इन्तज़ार करना था कि कब उसका पहला वार हो।

उसका हाथ धीरे से चला और मेरे लण्ड का जैसे आकार नापने लगा। मैंने अजय की ओर देखा। वो जैसे अन्जान सा बना हुआ सामने सड़क देख रहा था। उसका हाथ अब मेरे लण्ड को ऊपर से नीचे तक पूरी लम्बाई को टटोल रहा था। उसकी अंगुलियाँ मेर लण्ड दबा दबा कर लम्बाई को महसूस कर रही थी।

मेरा लण्ड सख्त हो उठा, खड़ा होने लगा था। तब उसे पकड़ने में और सरलता लगने लगी। मुझे भीना भीना सा आनन्द आने लगा था। लण्ड को पकड़ने के कारण मेरे शरीर में तरंगे उठने लगी थी। मेरा काम तो बिना किसी मुश्किल के अपने आप हो रहा था।

उसने मुझे तिरछी नजर से देखा- विनोद, तेरा लण्ड तो मस्त है यार !

मैं कुछ नहीं बोला, बस उसे देखता ही रहा।

ये जिप तो खोल दे यार, जरा इस मस्त लण्ड को अन्दर से देखूँ तो !

मैंने पैंट की जिप खोल दी, मेरा लण्ड बाहर आ गया।

अरे वाह, बस ऐसे ही ... बाकी का काम उसने लण्ड खींच कर पूरा ही बाहर निकाल लिया।

तभी परदे के पीछे से आवाज आई- टिकट दिखाइए !

मैंने जल्दी से लण्ड पैंट के भीतर डाल दिया। परदा हटा कर उसे टिकट दिया।

भाई साहब, आप दोनों उस पीछे वाली सीट पर चले जाईये। पीछे गाड़ी पूरी खाली है, प्लीज, वहां पर जितना चाहे मज़ा कीजिये।

हम दोनों पकड़े गये थे। शर्म से हमारे मुख लाल हो गये। पर जब उसे मालूम ही हो गया था तो हम चुप से उठ कर पीछे आ गये। सच में पीछे कोई नहीं था और पर्दे भी लगे हुये थे। कन्डक्टर मुस्कराते हुये सीट दिखा कर चला गया। लक्जरी बस थी सो पीछे भी गाड़ी का उछाल नहीं था। हम दोनों पीछे बैठ गये। अजय ने कण्डक्टर को धन्यवाद कहा।

अब मैंने भी खुल जाना बेहतर समझा। मेरे पैंट की जिप तो खुली हुई ही थी। मैंने भी उसके पैंट पर से उसके लण्ड पर हाथ मारा। वो तो पहले से ही खड़ा हुआ था।

"साले तेरा बम्बू तो पहले से ही तना हुआ है?"

"तुझे देख कर खड़ा हो जाता है यार, तू है ही इतना सोलिड !"

उसकी पैंट की जिप खोल कर मैंने भी उसका लण्ड थाम लिया। बाहर से आती रोशनी में से उसका लण्ड बहुत सुन्दर लग रहा था। उसका हाथ अब मेरे लण्ड पर धीरे धीरे आगे पीछे चलने लगा था। मैंने उसका सुपाड़ा धीरे से चमड़ी खींच कर खोल दिया। वो गीला और चिकना हो गया था।

मैंने भी मुठ मारने की कोशिश की तो वो बोला,"रुक जा ! बाद में करना, पहले मुझे मुठ मारने दे। बहुत दिनों से अपने आप को रोके हुए हूँ। साली तेरी गाण्ड बहुत सेक्सी है।"

वो धीरे से नीचे झुक गया और मेरा कड़क लण्ड अपने मुख में ले लिया। अब वो मस्ती से धीरे धीरे चूसने लगा। मेरे तन में मीठी मीठी लहरें चलने लगी। कैसा संयोग था कि मुझे जिस बारे में महीनों सोचना पड़ा था और हिम्मत भी नहीं हो रही थी, वो सब उल्टा ही हो गया। सब कुछ इतना आसानी से हो गया। अब मैं और सम्भल कर बैठ गया ताकि वो लण्ड को बेहतरीन तरीके से चूस ले। उसके लण्ड चूसने की पुच पुच की आवाजे आने लगी थी।

"आह, तू तो मेरा लण्ड चूस चूस कर तो आज मुझे झड़ा ही देगा, अरे बस कर यार !"

यह सुन कर तो उसने और जोर से चूसना आरम्भ कर दिया।

"अरे साले, मेरा निकल जायेगा, बस कर तो..."

वो जान कर मेरी अनसुनी करता रहा। बल्कि और जोर से मेरा सुपाड़ा घिसने लगा।

"मादरचोद, साले छोड़ दे अब तो ..." मैं तो कहता ही रह गया और मेरी पेशाब नलिका अनियंत्रित होकर ढेर सारा वीर्य उसके मुख में ही उगल दिया। शायद वो यही चाहता था। बहुत ही शान्ति से उसने सारा वीर्य पी लिया और फिर बैठ गया। मैंने रूमाल से उसके मुख पर आये वीर्य के छींटों को साफ़ कर दिया।

"तू गजब करता है यार ! मेरा तो माल ही निकाल दिया और पी भी गया उसे?"

वो मुस्करा उठा।

"तू भी यार मस्त माल है, पर तुझे मजा आया या नहीं, विनोद?"

"सच बताऊँ अजय, मेरा दिल तो बहुत दिनो से तुझ पर था, कि मैं तेरा लण्ड पकड़ कर घिस दूं, तेरी... तेरी गाण्ड मार दूं, पर हिम्मत ही नहीं हुई, सोचा कहीं बुरा ना मान जाये !"

"तो क्यों नहीं किया यार, मेरा दिल तो सच कहूं तेरी गाण्ड मारने पर आ ही गया था। साला कितना सेक्सी लगता है तू, तेरी गाण्ड देख कर यार मेरा तो साला लौड़ा खड़ा हो जाता था। लगता था कि तेरी प्यारी सी गाण्ड मार दूँ।"

"मेरा भी यही हाल था, तेरी मस्त गाण्ड देख कर मेरा जी भी तेरी गाण्ड चोदने को करता है।"

हम दोनों गले मिल गये और एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे।

"तो क्यों नहीं किया यार, मेरा दिल तो सच कहूं तेरी गाण्ड मारने पर आ ही गया था। साला कितना सेक्सी लगता है तू, तेरी गाण्ड देख कर यार मेरा तो साला लौड़ा खड़ा हो जाता था। लगता था कि तेरी प्यारी सी गाण्ड मार दूँ।"

"मेरा भी यही हाल था, तेरी मस्त गाण्ड देख कर मेरा जी भी तेरी गाण्ड चोदने को करता है।"

हम दोनों गले मिल गये और एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे।

"विनोद, दिल्ली में पहुंच कर तबियत से गाण्ड चुदवाना यार !"

"तेरी कसम अजय, मेरी गाण्ड अब तेरी है, तबियत से चुदवाऊंगा यार, पर तू भी अपनी गाण्ड में तेल लगा कर रखना, जम के तबियत से चोदूंगा मैं इसे, गाण्ड मरवाने में पीछे मत हटना।"

हम दोनों फिर से एक दूसरे को चूमने चाटने लगे। बीच में कुछ देर के लिये बस रुकी। हम दोनों ने ठण्डा पिया। बस कण्डक्टर को भी हमने ठण्डा पिला दिया।

"सर, मेरे लायक कोई सेवा हो तो बताना !" मुस्कराते हुये वो बोला।

"आपको कैसे पता कि हमें पीछे की सीट की आवश्यकता है?"

"सर, मैं परदे की आड़ से सब देख लेता हूँ, आपने जो किया वो भी मैंने देखा है, पर बहुत से गे होते है ना, पर विश्वास रखिये मैंने भी ऐसा बहुत बार किया है, इसी बस में ! इसीलिये मैं उन सभी को पूरी हिफ़ाजत देता हूँ जो मस्ती करना चाहते हैं।" फिर वो मुस्कराता हुआ बोला,"दिल्ली में यदि रुकना हो तो ये मेरे दोस्त का पता है। उसका एक गेस्ट हाऊस है, सौ रुपये में ही दोनों को ठहरा देगा।"

हम दोनों ने एक दूसरे को देखा और खुश हो गये। उसने उसका कार्ड दे दिया।

बस दिल्ली की ओर चल पड़ी थी। अब मेरी बारी थी अजय के लण्ड को चूसने की। उसने अपनी जिप खोल दी। मैंने उसका लण्ड पकड़ कर आगे पीछे करने लगा। फिर धीरे से उसके लण्ड पर झुक गया। उसका सुपाड़ा मैंने मुख में ले लिया। मुख में वेक्यूम कर के मैं लण्ड को चूसने लगा। मैंने जिंदगी में पहली बार लण्ड चुसाया था और अब चूस भी रहा था। यह नया अनुभव था। उसका कड़क लण्ड रबड़ जैसा लग रहा था। मैंने उसका लण्ड पकड़ कर जोर से दबा दबा कर पीना आरम्भ कर दिया था। कुछ ही देर में उसकी सांसें भरने लगी। वो जोर जोर से सांस लेने लगा। उसकी उत्तेजना बढ़ चली थी। फिर उसने मेरा सर थाम लिया और अपना लण्ड मेरे मुख में दबा दिया। हल्का सा जोर लगा कर उसने मेरे मुख में ही लण्ड ने वीर्य उगल दिया।

मेरा सर दबाये हुये वो बोला,"पी ले साले पी ले, पूरा पी ले।"

क्या करता, उसका लण्ड मेरी हलक तक आ गया था। पीने की जरूरत ही नहीं हुई वो तो सीधे गले में उतरता ही चला गया। उसने जोर से सर थाम कर कई चुम्मे ले डाले। फिर हमने अपनी कुर्सी पीछे झुकाई और लेट गये। आज मेरे दिल को शान्ति मिल गई थी।

सवेरे कन्डक्टर ने हमे उठाया,"बहुत अधिक मस्ती कर ली थी क्या ?"

"नहीं नहीं, बस एक एक बार किया था।"

हम अपना सामान ले कर नीचे उतर पड़े। कण्डकटर ने एक टूसीटर वाले को बुला कर उसे पता बताया,"सोनू को कहना कि ये रघु कण्डक्टर के मेहमान हैं।"

हम सीधे ही गेस्ट हाऊस आ गये। परिचय पाकर उसने सबसे अच्छा कमरा दे दिया। रात की अधूरी नींद लेने के लिये हम दोनों फिर से सो गये। दिन को भोजन करके हमने मेडिकल की दुकानों और डॉक्टरों से मिल कर अपना रोज का काम निपटाया और सात बजे तक हम कमरे में आ गये थे। लड़के ने हमारे कमरे में दो गिलास और नमकीन रख दी थी। व्हिस्की हम साथ ही रखते थे।

कुछ ही पलों में हमे शराब का सरूर चढ़ चुका था। मुझे लग रही थी कि जल्दी से अपनी गाण्ड चुदवाऊं। बहुत लग रही थी मुझे तो अपनी गाण्ड चुदवाने की।

"विनोद, तेल लाया है गाण्ड मराने के लिये?" अजय ने पूछा।

"अरे वो अपनी कम्पनी की क्रीम है ना, वो ट्यूब, बढिया है गाण्ड चुदवाने के लिये।"

"तो हो जाये एक कुश्ती ... चल साले भोसड़ी के, तेरी गाण्ड की मां चोदता हूँ।"

मैंने अपनी लुंगी उतार कर दूर फ़ेंक दी। बनियान भी उतार दी। गाण्ड चुदाने के लिये मैं तैयार था।

"मां के लौड़े, तू क्या कपड़े पहन कर चोदेगा मुझे?" उसकी ओर मैंने देखा और हंस कर कहा।

"तो ये ले ... " अजय ने भी कपड़े उतार दिये।

उसने एक क्रीम की ट्यूब मुझे उछाल कर दे दी। मैंने उसे उसे खोल दी,"ले जब मैं झुक जाऊँ तो इसे गाण्ड में भर देना। और देख जब गाण्ड मारे ना, तब मेरी मुठ भी मार देना साथ में !"

अजय ने किसी घोड़ी तरह मेरे शरीर पर हाथ फ़ेरा और पुठ्ठे पर दो हाथ जमा दिये।

"चल घोड़ी बन जा।"

मैं पलंग पर दोनों हाथ टिका कर झुक गया, दोनों टांगें को फ़ैला दी, गाण्ड का छेद सामने खुल कर आ गया।

अजय ने मेरी गाँड में क्रीम लगा दी। मैं झुका हुआ इन्तज़ार करता रहा। फिर मुझे उसके लण्ड का अग्र भाग की नरमी महसूस हुई। सुपाड़ा छेद में चिपक गया था। उसने मेरी कमर पर हाथ से सहलाया और कहा,"विनोद, अब गाण्ड ढीली छोड़ दे।"

"मुझे पता है, कब से ढीली छोड़ रखी है, बस अब अन्दर ही लेना है।"

उसने जोर लगाया तो उसका लण्ड धीरे धीरे अन्दर आने लगा। मेरा छेद खिल कर चौड़ा होने लगा और खुलने लगा। तभी मुझे लगा लण्ड भीतर आ चुका है।

"अब ठीक है, हो जा तैयार चुदने को !"

"अरे तैयार तो हूँ, पर पहले मेरा तो लौड़ा थाम ले !"

"चिन्ता मत कर यार, तेरा रस भी लण्ड को निचोड़ कर निकाल दूंगा।"

उसका हाथ मेरे लण्ड पर आ गया। मेरा लण्ड भी इस प्रक्रिया में उत्तेजना से बेकाबू हो रहा था। उसने जोर लगा कर धीरे धीरे अपना पूरा लण्ड मेरी गाण्ड के अन्दर घुसेड़ दिया। उसके लण्ड की मोटाई मुझे महसूस नहीं हुई। बस लगा कि कोई एक रबड़ का डण्डा भीतर घुस गया है। पर उत्तेजना इस बात की थी कि मेरी गाण्ड मारी जा रही थी, चोदी जा रही थी। अब उसने मेरा कड़क लण्ड पकड़ लिया और मेरी गाण्ड धीरे धीरे चोदने लगा। अब मुझे मेरे लण्ड का मुठ मारने का मजा भी देने लगा था। तभी मुझे लगा कि अजय की उत्तेजना बढ़ती जा रही है। उसका लण्ड फ़ूलने लगा था। मेरी गाण्ड में उसका लण्ड महसूस होने लगा। वो भारी सा लगने लगा था।

उसकी रफ़्तार बढ़ गई थी। थोड़ा सा झुक कर वो मेरी गाण्ड चोद रहा था और मेरे लण्ड पर उसका हाथ सटासट चल रहा था। मेरे आनन्द की कोई सीमा नहीं थी। तभी मेरी कसी गाण्ड के कारण वो मेरी गाण्ड में ही झड़ गया। मुझे आश्च्र्य हुआ कि वो इतनी जल्दी कैसे झड़ गया। फिर भी यह एक नया अनुभव था सो बहुत मजा आया।

अब मेरी बारी थी उसकी गाण्ड मारने की। मैंने जल्दी से उसे घोड़ी बनाया और ट्यूब की क्रीम उसकी गाण्ड में भर दी। मेरा तनतनाता हुआ लण्ड उसकी गाण्ड में घुसने की तैयारी करने लगा। पहली बार मैं किसी की गाण्ड मार रहा था। उसकी गाण्ड तो नरम सी थी। लण्ड का जरा सा जोर लगते ही लण्ड गाण्ड में घुसता चला गया। मुझे लगा कि मेरा लण्ड शायद उसके कसे छेद के करण रगड़ खाकर शायद छिल गया था। पर मैंने मस्ती से उसकी गाण्ड चोदी। खूब मस्ती से धक्के पर धक्के लगाये। ऐसा करने से मेरे लण्ड में गजब की मिठास भर गई। उसके शरीर का स्पर्श मुझे अब बहुत की आनन्दित कर रहा था। मैं रह रह कर उससे चिपक जाता था। जब मैं झड़ गया तो मुझे बहुत शान्ति महसूस हुई।

"यार अजय, मजा आ गया !"

"हां विनोद, अब रोज ही चुदाना, इसी मस्ती से और तबियत से !"

"साले, तेरी गाण्ड तो चूत की तरह निकली यार?"

"पहले भी लण्ड खाये है ना, मन ही नहीं भरता है।"

रात को गाण्ड मारने का एक दौर और चला। यूं हमने अपने दो दिन यात्रा के दौरान खूब गाण्ड की चुदाई की। घर आ कर तो हमने हद ही कर दी थी। जब समय मिलता तभी गाण्ड चुदाई करने लग जाते थे। कभी उसके घर में और कभी मेरे घर में।

आपका

प्रेम सिसोदिया

Reply With Quote
  #2  
Old 09-18-2011, 10:37 AM
ab6727's Avatar
ab6727 ab6727 is offline
Professional
 
Join Date: Jun 2010
Posts: 623
Rep Power: 4
ab6727 is an unknown quantity at this point
Default Re: दो दीवाने

awesome story, thanks.
__________________
Downlaod free mms scandal clips of top bollywood actress like katrina kaif, riya sen, kareena kapoor etc.

http://downloadfreemms.blogspot.com
Reply With Quote
Reply

Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off



All times are GMT +5.5. The time now is 06:24 AM.


Powered by vBulletin® Version 3.8.6
Copyright ©2000 - 2014, Jelsoft Enterprises Ltd.
all Rights Reserved @ Mastiya
eXTReMe Tracker